साइंस सिटी में आपका स्वागत है

साइंस सिटी का उद्‍घाटन 1 जुलाई 1997 को किया गया। साइंस सिटी को कोलकाता के निवासियों, राष्ट्रीय और अंतर्राष्ट्रीय दर्शकों के लिए एक मुख्य आकर्षण के रुप में विकसित किया गया। राष्ट्रीय विज्ञान संग्रहालय परिषद द्वारा विकसित यह सिटी दुनिया के सबसे बड़े और बेहतरीन स्थलों में से एक है। साइंस सिटी विज्ञान और प्रोद्योगिकी को स्फूर्तिप्रद और रोचक वातावरण प्रदान करती है जो कि हर उम्र के लोगों के लिए सही मायने में शैक्षिक और आनंददायक है। पिछले कुछ वर्षों में साइंस सिटी युवा और वृद्धों के लिए एक आनंददायक और यादगार अनुभव का स्थल बन गया है।

और पढ़ें

मौजूदा आकर्षण

साइंस ऑन अ स्फेयर

विज्ञान नगरी ने देश के पूर्वी हिस्से में अपने प्रकार की सर्वप्रथम अत्याधुनिक सुविधा गोलक पर विज्ञान को शामिल किया है । गोलाकार प्रक्षेपण प्रणाली वाले इस कमरे में कम्प्यूटरों एवं विडियो प्रक्षेपकों के उपयोग से दीर्घकाय चालित गोलक के सदृश्य 1.80 मीटर व्यास गोलक पर ग्रहीय आँकड़े दर्शाये जाते हैं । सभी उम्र के लोगों के लिए पृथ्वी की गतिमान प्रक्रियाओं एवं सहयोगी विज्ञान को दर्शाने के लिए यह एक प्रभावी शैक्षिक उपकरण है । पृथ्वी के स्थल, समुद्र और वायुमंडल की अनुप्राणित तस्वीरें ग्रह पर सदृश्य दर्शा कर यह बताया जा सकता है कि जटिल अन्तरर्दर्शी और मोहक प्रक्रियाएँ क्या हैं ? इस सुविधा से जटिल वायुमंडलीय प्रक्रियाओ को बेहतर तरीके से समझने में मदद मिलेगी ।

जीवन का क्रम विकास - एक अंधेरी यात्रा

यह मनमोहक प्रदर्शनी पृथ्वी की संरचना और जीवन के विभिन्न रूपों पर एक सक्रिय प्रस्तुति के साथ शुरू होती है। इस प्रदर्शनी में 56यंत्र मानव आकार के जानवरों के प्रतिरूप हैं जो सात खंडों में विभाजित हैं । ये खंड क्रम विकास के महत्वपूर्ण घटनाओं को दर्शाते हैं और संबंधित युग के जीव रूपों का प्रतिनिधित्व करते हैं । दर्शकों को इस चित्ताकर्षक अनुभव के लिए धीमी रफ्तार से चलने वाली गाड़ी में ले जाया जाता है जो कम्प्यूटर नियंत्रित विशेष प्रकाश और ध्वनि प्रभाव से लेयश लैश है । प्रत्येक खंड से दर्शकों का परिचय सीजीआई की मदद से निर्मित विशेष दृश्य-श्रव्य प्रस्तुति के साथ कराया जाता है ।

मानव क्रम विकास पर डिजीटल सिंहावलोकन प्रस्तुति

यह डिजीटल सिंहावलोकन प्रस्तुति एक विरल मनमोहन अनुभूति है जो मानव क्रम विकास के विगत 6 करोड़ वर्षों के दौरान महत्वपूर्ण घटनाओं को दर्शाती है । यह डिजीटल प्रस्तुति अपने ढंग की पहली प्रस्तुति है जो दुनिया में कहीं और नहीं मिलती । यह 10 मीटर ज्र्12 मीटर आकार के स्थिर दीर्घाकार तस्वीरों से शुरू होती है और मानव क्रम-विकास की महत्वपूर्ण घटनाओं को दर्शाती है । इसके बाद मानव विकास पर 12 मिनटों की एक गतिमान फिल्म सस्वर तीन भाषाओं में दिखायी जाती है जो शक्तिशाली डिजिटल प्रेक्षेपकों की मदद से विशाल बेलनाकार पर्दे पर प्रक्षेपित होती है ।

पिछली घटनाएं

ताज़ा खबर

विज्ञान नगरी कोलकाता ने स्पेस थिएटर को द्विविमीय/त्रिविमीय डिजिटल थिएटर में उन्नत करने का कार्य शुरू किया है।

विज्ञान नगरी कोलकाता ने स्पेस थिएटर को द्विविमीय/त्रिविमीय डिजिटल थिएटर में उन्नत करने का कार्य शुरू किया है। इस कार्य हेतु 1 मार्च 2017 से अगली सूचना तक स्पेस थिएटर बंद रहेगा।

और पढ़ें

15 से 30 सितंबर 2016 के दौरान स्वच्छता पखवाड़े का अवलोकन

” स्वच्छ भारत मिशन-तंत्र ” के संबंध में साइंस सिटी, कोलकाता में 16 , 22 और 30 सितंबर 2016 को स्वच्छता पखवाड़ा आयोजित किया जायेगा । कोलकाता के विभिन्न स्कूलों के छात्र इन सभी दिनों में साइंस सिटी के परिसर में विभिन्न गतिविधियों में भाग लेंगे।

और पढ़ें
Hindkormosala 8' x4'  A4t

हिन्दी पखवाड़ा 2016

भारत सरकार के निदेशानुसार हर वर्ष सितंबर 14 को हिन्दी दिवस मनाया जाता हैं । हिन्दी का व्यापक प्रयोग तथा जागरूकता लाने के लिए भारत सरकार के समस्त केन्द्रीय कार्यालय, सरकारी उपक्रम आदि में हर वर्ष सितंबर महीना में हिन्दी दिवस, हिन्दी सप्ताह, हिन्दी पखवाड़ा तथा हिन्दी माह मनाया जाता हैं । विज्ञान नगरी कोलकाता

और पढ़ें

आगामी घटना को देखने के लिए